मरजी बा राउर अरजिया के मानी लिरिक्स| भरत शर्मा व्यास लिरिक्स

मरजी बा राउर अरजिया के मानी लिरिक्स

मरजी बा राउर अरजिया

मरजी बा राउर मरजी बा राउर अरजिया के मानी

कहिती त आनती कठौती मे पानी

कहिती त आनती कठौती मे पानी

मरजी बा राउर मरजी बा राउर हो….

मरजी बा राउर अरजिया के मानी

कहिती त आनती कठौती मे पानी

कहिती त आनती कठौती मे पानी

 

रउरा चरनिया में जादू भरल बा

रउरा चरनिया में जादू भरल बा

पत्थर से हीं नारी बनल बा

नईया ई नारी बने येही से डेराली

कहिती त आनती कठौती मे पानी

कहिती त आनती कठौती मे पानी, कहती त अनती..

 

देर जनी करी प्रभु पऊंआ बढ़ाईं

चढ़े के पहिले चरनिया धोआईं

देर जनी करी प्रभु पऊंआ बढ़ाईं

चढ़े के पहिले चरनिया धोआईं

केवट के हठ देखी केवट के हठ देखीं नाथ मुस्कानी

कहिती त आनती कठौती मे पानी

कहिती त आनती कठौती मे पानी, कहती त अनती..

 

गंगा के पानी से पांव धोवे लागल

कई रे जनम के ऊ आशा रहे लागल

गंगा के पानी से पांव धोवे लागल

कई रे जनम के ऊ आशा रहे लागल

पार रे उतरी रे गइले, उतरीई….रे

आरे पार रे…उतरी रे.. गईले

पार रे उतरी रे गइले तीनों पराणी

कहिती त आनती कठौती मे पानी

कहिती त आनती कठौती मे पानी,

कहती त अनती..

 

जाति से जाति खेवाई न लेला

जाति से जाति खेवाई न लेला

धोबी से धोबी धोआई ना लेला

ना चाही नाथ राउर ना चाही नाथ राउर मुनरी निशानी

कहिती त आनती कठौती मे पानी

कहिती त आनती कठौती मे पानी, कहती त अनती..

 

नदी से नदी,नदई…रे

नदी के खेवाइ आजु का करब लेइ के

नंदी के खेवाइ आजु का करब लेइ के

ओह दिन पार हम का जाईब देइ के

देवेंदर के भरत आजू पार करतानी

ओह दिन पार करिह कर जोड़ तानी

ओह दिन पार करिह कर जोड़ तानी

कहिती त आनती कठौती मे पानी

कहिती त आनती कठौती मे पानी, कहती त अनती..

ओह दिन पार करिह कर जोड़ तानी

अगर आप भारत सरकार द्वारा जारी किए गए अनेक प्रकार के योजनाओं और स्कीम के बारे में जानना चाहते हैं तो हमारे दूसरे भी वेबसाइट पर विजिट करें

Leave a Comment

error: Content is protected !!