राजा पिय जनी गांजा लिरिक्स- भरत शर्मा व्यास के लोकगीत

राजा पिय जनी गांजा लिरिक्स- भरत शर्मा व्यास के लोकगीत

आआ……आआ…… आ……..
खराब हो जईबआ हो खराब हो जईबआ-2
राजा पिय जनी गांजा हो खराब हो जईब
खराब हो जईबआ हो खराब हो जईबआ-2
राजा पिया जनी गांजा हो खराब हो जईब

ना पियबा त सुना बलमुआ बनल रही शरीर
ना पियबा त सुना बलमुआ बनल रही शरीर
पियाल न छोड़बा त रही रही उठल करी पीड़
मिली न जीनगी के, मिली न जिनगी के मजा हो
खराब हो जाईब.. जिनगी के माजा हो
खराब हो जईब राजा पीय जनी….

गांजा छोड़ पिय बलामुआ बदला आपन लाइन
गांजा छोड़ दारू पिय बदला आपन लाइन
खाना में रही मुर्गी अंडा और चलाईह वाइन
मिजाज बनल रही हो..होहहो…..मिजाज बनल
रही ताज़ा हो गुलाब हो जईबा, मिजाज बनल
रही ताज़ा हो गुलाब हो जईबा राजा पिय जनी..

बाबुल के घर छोड़ बलमुआ अईली तोर भवनवा
छतिया के ई बतिया देख के डर लगेला मनवा
देहिया सुख के भईल, देहिया सुख के भईल खाजा हो हो..हो देहिया सुख के भईल खाजा हो खराब हो जईब राजा पीय जनी….
राजा पिया जनी गांजा हो खराब हो जईब राजा पीय जनी..…..

भरत शर्मा का और हिट गाना…..

https://www.youtube.com/watch?  v=3C786Q66V3o

 

 

 P2.Raja piya Jani Ganja Lyrics- Bharat Sharma

 

Aa..aaa……..aaa..aaa….aaaaa

Kharab ho jaiba ho kharab ho jaiba-2

Raja Piya Jani ganja ho kharab ho jaiba

Kharab ho jaiba ho kharab ho jaiba-2

Raja Piya Jani ganja ho kharab ho jaiba

 

Na piyaba ta suna balamua banal rahi sharir    Na piyaba ta suna balamua banal rahi sharir    piyal na chhorba ta rahi rahi uthal kari pir.      Mili na jingi ke, mili na jingi ke maja ho             kharab ho jaiba.. jinagi ke maja ho kharab ho jaiba Raja Piya Jani….. 

Gajnja chhod piya balamua badala aapn line    Gajnja chhod daru piya badla aapn line              Khana me rahi rahi murgi anda or chalaiha wine mijaj banal rahi ho….ho….ho