सुतला में रहनी खाटी- भरत शर्मा व्यास निर्गुण

सुतला में रहनी खाटी- भरत शर्मा व्यास निर्गुण

सुतला में रहनी खाटी- भरत शर्मा व्यास निर्गुण

अरे सुतला में रहनी खाटी आरे सापना दे..खिले राती रेे सजनी रे रे सजनी रे
सपना में पीयवा भेजे एगो पाती नु ए राम
रे सजनी रे आहो सजनी रे सपना में….

सुताला में रहनी खाटी आरे सापना देखिले राती रेे सजनी रे रे सजनी रे
सपना में पीयवा भेजे एगो पाती नु ए राम

पाती उठाई लिहनी छाती से लगाई लीहनी
पाती उठाई लिहनी छाती से लगाई लीहनी
रे सजनी रे रे सजनी र पातिया बांचत
छतिया फटेला ए राम आहाे सजनी रे
आहों सजनी रे पतीय बंचत छतिया
फटेला ए राम

आआ…. ए कन्हैया. ए कन्हाई. ई…या
हमनी के तेज दिहले कुबरो से प्रीत कइले
रे सजनी ए सजनी रे कूबरो ठगीनिया
कवनो गुण आगर ए राम

अंगवा के पातर हम तिरछी नजरिया मोर
अंगवा के पातर अंगवा के पातर-2
अंगंवा के पातर हम तिरछी नजरिया मोर
रे सजनी ए सजनी रे केशीया न भंवरा
लुभावेला ए राम

दास कबीर ईहो गावे निर्गुणवा राम
दास कबीर ईहो गावे निर्गुणवा राम
रे सजनी आहो सजनी रे गाई गाई
बिरहिन समुझावेला ए राम
रे सजनी ए सजनी रे गाई गाई
बिरहिन समुझावेला ए राम-2

और लिरिक्स

 

https://youtu.be/8fJOnblB7R8

Are Sutla me rahni khati                                    are Sapna dekhile rati re sajni re                            re sajni re Sapna me piyawa bheje                  ego pati nu e ram Re sajni re aaho sajni re.          Sapna me piyawa bheje ego pati nu e ram

Sutla me rahni khati                                       Sapna dekhile rati re sajni re                             sajni re Sapna me piyawa bheje                      ego pati nu e ram

Pati uthai lihani chhati se lagai lihni.                    Pati uthai lihani chhati se lagai lihni.                    Re sajni re re sajni re patiya banchat                    chhatiya fatela e ram aaho sajni re                        aaho sajni re patiya banchat                 chhatiya fatela e ram

E kanhaiya… E kanhai…ya….                                     Hamni ke teji dihle kubro se prit kaile.                E sajni re e sajni re kubro thaginiya                      kavno gun aagar e ram

Leave a Comment