के खोली कपट केवड़िया हो सदगुरु बिना साहेब लिरिक्स, मदन राय

सजना सयान हम नादान लिरिक्स, मदन राय

के खोली कपट केवड़िया हो सदगुरु बिना साहेब लिरिक्स, मदन राय                             के खोली..के खोली कपट केवड़िया हो सदगुरु बिना साहेब को खोली कपट केवाड़िया हो सदगुरु बिना साहेब-2 नईहर में कुछहुं न सिखनी नईहर में कुछहुं न सिखनी-3 ससूरे में भईली  फुहरिया … Read more