सजना सयान हम नादान लिरिक्स, मदन राय के निर्गुण

सजना सयान हम नादान लिरिक्स, मदन राय

सजना सयान हम नादान लिरिक्स, मदन राय      बारी मोरी अबही उमिरिया बारी मोरी अबही उमिरिया आ विधाता दिनवा धई दिहले ए राम, बारी मोरी अबही उमिरिया आ विधाता दिनवा धई दिहले ए राम सजना सयान हम नादान त कइसे के गवानवा जाईब ए राम, सजना सयान हम नादान त कइसे के गवानवा जाईब … Read more

चुनरिया में दाग लग गईल लिरिक्स- मदन राय निर्गुण

चुनरिया में दाग लग गईल लिरिक्स- मदन राय निर्गुण   बइठल रोवेली गुजरिया हो चुनरिया में दाग लग गईल । बइठल रोवेली गुजरिया हो चुनरिया में दाग लग गईल । कइसे जाईं पिया के नगरिया हो कइसे जाईं पिया के नगरिया हो चुनरियां में दाग लग गईल ॥ बइठल रोवेली गुजरिया हो चुन्दरिया में दाग लग गईल आईल बा गवना क हमरो सनेसवा जाएके बा हमरा के पियवा के देशवा । काँच बारी, कांच बारी हमरी उमिरिया हो चुनरियां में दाग लग गईल । कांच बारी हमरी उमिरिया हो चुनरियां में दाग … Read more