कईसन बारे लक्ष्मण देवरवा लिरिक्स- पूनम शर्मा

कईसन बारे लक्ष्मण देवरवा लिरिक्स- पूनम शर्मा

कईसन बारे लक्ष्मण देवरवा लिरिक्स- पूनम शर्मा हरे राम हरे राम हरे राम हरे हरे हरे कृष्णा हरे कृष्णा हरे कृष्णा हरे हरे कईसन बारे लक्ष्मण देवरवा कैइसन प्रभू जी मोर कईसन बारे लक्ष्मण देवरवा कइसन प्रभू जी मोर पुछतारी सिया हो मईया गिरता नयनवा से लोर पुछतारी सिया हो मईया गिरता नयनवा से लोर … Read more

राजा पिय जनी गांजा लिरिक्स- भरत शर्मा व्यास के लोकगीत

जनती जे जारल जईबू आग में दहेज के लिरिक्स- भरत शर्मा व्यास

राजा पिय जनी गांजा लिरिक्स- भरत शर्मा व्यास के लोकगीत आआ……आआ…… आ…….. खराब हो जईबआ हो खराब हो जईबआ-2 राजा पिय जनी गांजा हो खराब हो जईब खराब हो जईबआ हो खराब हो जईबआ-2 राजा पिया जनी गांजा हो खराब हो जईब ना पियबा त सुना बलमुआ बनल रही शरीर ना पियबा त सुना बलमुआ … Read more

एक त मा बारी भोरी लिरिक्स-मदन राय निर्गुण

1. एक त मा बारी भोरी दूसरे पियावा गइलन रे चोरी – दोहा- की नागन बैठी राह में, बिरहन पहुंची आय नागन डर गई आप के, कि बिरहन डंस न जाय नाहर के नख में बसे, दन्ते बसे भुजंग की बिच्छी के पोछी बसे, बिरहन के सब अंग एक त मा बारी भोरी दूसरे पियावा … Read more