घर हीं मे माई के बुलाईब लिरिक्स, भरत शर्मा व्यास

घर हीं मे माई के बुलाईब लिरिक्स, भरत शर्मा व्यास

घर हीं मे माई

घर हीं मे माई के बुलाईब मंदिर बनवाईब हो

मईया लाली रे चंदनी टंगवाईब भजन गवाईब हो

(कोरस- मैया लाली रे चंदनी टंगवाईब भजन गवाईब हो)

घर हीं मे माई के बुलाईब मंदिर बनवाईब हो

मैया लाली रे चंदनी टंगवाईब भजन गवाईब हो

(कोरस- मैया लाली रे चंदनी टंगवाईब भजन गवाईब हो)

 

अंगना में बेदीया बनाईब यज्ञ करवाईब हो

मईया सातो रे बहिन के बुलाइब भगतीन हो जाईब हो।

(कोरस-मईया सातो रे बहिन के बुलाइब भगतीन हो जाईब हो)

 

सुती उठी देखी के जुराईब पुण्य हम पाईब हो

मैया दुखावा दलिदर भगाईब सुख हम पाईब हे

मैया दुखावा दलिदर भगाईब सुख हम पाईब हे

 

चईत में पाठवा कराइब पंडित बोलवाइब हो

मईया बेला फूलवा लाई के चढाईब हवन कराईब हे

मईया बेला फूलवा लाई के चढाईब हवन कराईब हे

 

गईया के घिऊआ ले आईब दियाना जराईब हो

मईया छांक लवंग के चढाईब माई के मनाईब हे

मईया छांक लवंग के चढाईब माई के मनाईब हे

 

गीत शिवपुरी से लिखवाईब भरत से गवाईब हो                          मईया चरण में सिस झुकाईब नित गुण गाईब हो

मईया चरण में सिस झुकाईब नित गुण गाईब हो

घर ही में माई के बुलाईब मंदिर बनवाईब हो

मईया लाली रे चंदनी टंगवाईब भजन गवाईब हो

(कोरस- मैया लाली रे चंदनी टंगवाईब भजन गवाईब हो)

 

Maiya saton re bahin ke lyrics

Ghar hin me mai ke bolaib mandir banwaib ho

Maiya lali re chandani tangwaib Bhajan gavaib ho

Maiya lali re chandani tangwaib Bhajan gavaib ho

Ghar hin me mai ke bolaib mandir banwaib ho

Maiya lali re chandani tangwaib Bhajan gavaib ho

Maiya lali re chandani tangwaib Bhajan gavaib ho

 

Angana me bediya banaib yagya karwaib ho

Maiya saton re bahin ke bolaib bhagtin ho jaib ho

Maiya saton re bahin ke bolaib bhagtin ho jaib ho

 

Suti uthi dekhi ke juraib punya ham paib ho

Maiya dukhwa dalidar bhagaib sukh ham paib ho

Maiya dukhwa dalidar bhagaib sukh ham paib ho

 

Chait me pathwa karaib pandit bolawaib ho

Maiya bela fulwa lai ke chadhaib hawan karawaib he

Maiya bela fulwa lai ke chadhaib hawan karawaib he

 

Gaiya ke ghiuaa le aaib diyana jaraib ho

Maiya chhank lawang ke chadhaib mai ke manaib he

Maiya chhank lawang ke chadhaib mai ke manaib he

 

Geet Shivpuri se likhwaib Bharat se gawaib ho

Maiya charan me shish jhukaib nit gun gaib he

Maiya charan me shish jhukaib nit gun gaib he

Ghar hin me mai ke bolaib mandir banwaib ho

Maiya lali re chandani tangwaib Bhajan gavaib ho

Maiya lali re chandani tangwaib Bhajan gavaib ho

बिहार की सरकारी योजना के बारे में जानने के लिए इस वेबसाइट पर जाएँ

1 thought on “घर हीं मे माई के बुलाईब लिरिक्स, भरत शर्मा व्यास”

Leave a Comment

error: Content is protected !!