जनती जे जारल जईबू आग में दहेज के लिरिक्स- भरत शर्मा व्यास

जनती जे जारल जईबू आग में दहेज के लिरिक्स- भरत शर्मा व्यास

जनती जे जारल जईबू आग में दहेज के लिरिक्स- भरत शर्मा व्यास           1. कंची कली की इस दामन छुपाकर फूलों तले                      सांस पाती है बेटी, खिल जाती कलियां तो                        … Read more

पटना से वैदा बुलाई द शारदा सिन्हा के लोकगीत का लिरिक्स

पटना से वैदा बुलाई द शारदा सिन्हा के लोकगीत का लिरिक्स

पटना से वैदा बुलाई द शारदा सिन्हा के लोकगीत का लिरिक्स पटना से… पटना से वैदा बुलाई द                         हो नजरा गईनी गुंयिया Pटना से वैदा बुलाई द                                    … Read more