बिरहा के अगिया लागेला एही तन में लिरिक्स, मदन राय

बिरहा के अगिया लागेला एही तन में लिरिक्स, मदन राय

बिरहा के अगिया लागेला

बिरहा के अगिया लागेला एही तन में कवन सखी मार दिहली टोना ए राम,

विरहा के अगिया लागेला एही तन में कवन सखी मार दिहली टोना ए राम,

कवन सखी मार दिहली टोनवा ए हरी जी-२

कवन सखी मार दिहली टोन ए राम

बिरहा के अगिया लागेला एही तन में कवन सखी मार दिहली टोना ए राम,

बिरहा के अगिया लागेला एही तन में कवन सखी मार दिहली टोना ए राम,

कवन सखी मार दिहली टोन ए राम लिरिक्स

 

कंकड़ चुनी चुनी महल बनवनी लोग कहे घर मोरा ए राम

कंकड़ चुनी चुनी महल बनवनी लोग कहे घर मोरा ए राम

ना घर मेरा ना घर तेरा ना घर मेरा ना घर तेरा चिड़िया रैन बसेरा ए राम

विरहा के अगिया लागेला एही तन में कवन सखी मार दिहली टोना ए राम,

विरहा के अगिया लागेला एही तन में कवन सखी मार दिहली टोना ए राम,

 

 

अमवा की डारी पे बोलेले कोइलिया बन में बोलेला बन मोर ए राम

अमवा की डारी पे बोलेले कोइलिया बन में बोलेला बन मोर ए राम

नदिया किनारवा बोलेला सहरेसवा, नदिया किनारवा बोलेला सहरेसवा हम जानी पिया मोरा ए राम

विरहा के अगिया लागेला एही तन में कवन सखी मार दिहली टोना ए राम,

विरहा के अगिया लागेला एही तन में कवन सखी मार दिहली टोना ए राम,

 

 

मोरा पिछुवारवा चरेला बन मोरवा, जनि मारे कोई रोड़ा ए राम

मोरा पिछुवारवा चरेला बन मोरवा, जनि मारे कोई रोड़ा ए राम

रोड़वा के मरले ई मोर मरी जईंहे, रोड़वा के मरले ई मोर मरी जईंहे मोरा बिरहिनिया के जोड़ा ए राम

विरहा के अगिया लागेला एही तन में कवन सखी मार दिहली टोना ए राम,

विरहा के अगिया लागेला एही तन में कवन सखी मार दिहली टोना ए राम,

 

 

लट छितराई के कामिनी रोए के मोरा जोड़ा के फोड़ा ए राम

लट छितराई के कामिनी रोए के मोरा जोड़ा के फोड़ा ए राम

कहत कबीर सुन ए भाई साधो, कहत कबीर सुन ए भाई साधो जिन जोड़ा तीन तोड़ा ए राम

विरहा के अगिया लागेला एही तन में कवन सखी मार दिहली टोना ए राम,

विरहा के अगिया लागेला एही तन में कवन सखी मार दिहली टोना ए राम,

 

अपने प्रियजनों को यहाँ से रक्षा बंधन की शुभकामना मैसेज भेजे

1 thought on “बिरहा के अगिया लागेला एही तन में लिरिक्स, मदन राय”

Leave a Comment

error: Content is protected !!