सजा दो मथुरा गुलशन सा हिंदी भजन लिरिक्स

सजा दो मथुरा गुलशन सा हिंदी भजन लिरिक्स

सजा दो मथुरा गुलशन सा लिरिक्स

सजा दो मथुरा गुलशन सा मेरे घनश्याम आए हैं
साजा दो मथुरा गुलशन सा मेरे घनश्याम आए हैं
मेरे घनश्याम आए हैं मेरे घनश्याम आए हैं
लगे कुटिया भी दुल्हन सी लगे कुटिया भी दुल्हन सी                     मेरे सरकार आए हैं
सजा दो मथुरा गुलशन सा मेरे घनश्याम आए हैं

पखारो इनकी चरणों को बहा कर प्रेम की गंगा
बहा कर प्रेम की गंगा
पखारो इनकी चरणों को बहा कर प्रेम की गंगा
बहा कर प्रेम की गंगा
बिछा दो अपनी पलकों को बिछा दो अपनी पलकों को                  नंद के लाल आए
सजा दो मथुरा गुलशन सा मेरे घनश्याम आए हैं

तेरी आहट से है वाकिफ नहीं चेहरे की है दरकार,                        नही चेहरे की है दरकार
बिना देखे हीं कह देंगे लो आ गाए है मेरे सरकार                           लो आ गए है मेरे सरकार
दुआओं का हुआ है असर दुआओं का हुआ है असर                      बिरज से श्याम आए है
सजा दो माथुरा गुलशन सा मेरे घनश्याम आए हैं

नगरी हो अयोध्या सी लिरिक्स

saja do ghar ko gulshan sa lyrics

Saja do Mathura Gulshan sa mere Ghanshyam aaye hain-2
Mere Ghanshyam aaye hain mere Ghanshyam aaye hain
Lage kutiya bhi dulhan si mere Ghanshyam aaye hain
Saja do Mathura Gulshan sa mere Ghanshyam aaye hain

Pakharo inki charno ko baha kar prem ki ganga                   bahakar prem ki ganga
Pakharo inki charno ko baha kar prem ki ganga                   bahakar prem ki ganga
Bichha do apni palkon ko bichha do apni palkon ko nand ke lal aaye hain
bichha do apni palkon ko nand ke lal aaye hain
Saja do Mathura Gulshan sa mere Ghanshyam aaye hain-2

Tere chehre se hai wakif nahi chehre ki hai darkar
Bina dekhe hin kah denge lo aa gaye hai mere sarkar
Lo aa gaye hai mere sarkar
Duaon ka hua hai asar duaon ka hua hai asar biraj se syam aaye hain
Saja do Mathura Gulshan sa mere Ghanshyam aaye hain
Saja do Mathura Gulshan sa mere Ghanshyam aaye hain

Leave a Comment

error: Content is protected !!