अंखियां में भरीके आसारवा Lyrics- भरत शर्मा व्यास निर्गुण

माई दरबार चल भजन

अंखियां में भरीके आसारवा Lyrics- भरत शर्मा व्यास निर्गुण              दोहा-– तीरथ नाहाए एक फल..अ.                                      संत मिलन फल चा..र सदगुरु मिले अनेक फल.. अ कहे कबीर बिचा..र आरे अंखियां में भरीके आसारवा  … Read more

error: Content is protected !!