जनती जे जारल जईबू आग में दहेज के लिरिक्स- भरत शर्मा व्यास

माई दरबार चल भजन

जनती जे जारल जईबू आग में दहेज के लिरिक्स- भरत शर्मा व्यास            जनती जे जारल जईबू आग में दहेज के लिरिक्स- भरत शर्मा व्यास कंची कली की इस दामन छुपाकर फूलों तले  सांस पाती है बेटी, खिल जाती कलियां तो डाली से झुककर आंचल में मुखड़ा छुपाती है बेटी, खुशबू … Read more

राजा पिय जनी गांजा लिरिक्स- भरत शर्मा व्यास के लोकगीत

माई दरबार चल भजन

राजा पिय जनी गांजा लिरिक्स- भरत शर्मा व्यास के लोकगीत आआ……आआ…… आ…….. खराब हो जईबआ हो खराब हो जईबआ-2 राजा पिय जनी गांजा हो खराब हो जईब खराब हो जईबआ हो खराब हो जईबआ-2 राजा पिया जनी गांजा हो खराब हो जईब ना पियबा त सुना बलमुआ बनल रही शरीर ना पियबा त सुना बलमुआ … Read more

छोड़ गइले रेे रात सुतले सेजरिया पे लिरिक्स, भरत शर्मा व्यास

छोड़ गइले रेे रात सुतले सेजरिया पे,भरत शर्मा व्यास आ आआ..आआ… छोड़ गइले रेे रात सुतले सेजरिया पे छोड़ी गइले रेे रात सुतले सेजरिया पे छोड़ गइईले.. चढ़ली जवनिया कदम बहकावे अंखिया के निंदिया अंखियां के निंदिया 2 अखियां के निंदिया रैन तरसावे कांचे कली उ  कांचे कली उ मड़ोड गइल रे रात सुतले सेजरिय … Read more

तुहिं हमरा जीनगी के सोलहो सिंगार lyrics-भरत शर्मा व्यास

1.तुहिं हमरा जीनगी के सोलहो सिंगार lyrics-भरत शर्मा व्यास तुहिं हमरा जीनगी के सोलहो सिंगार                                        तनी हेने आव तनी हेने आव तोहरे पर आसरा हमार तनी हेने आव                  … Read more

एक त मा बारी भोरी लिरिक्स-मदन राय निर्गुण

1. एक त मा बारी भोरी दूसरे पियावा गइलन रे चोरी – दोहा- की नागन बैठी राह में, बिरहन पहुंची आय नागन डर गई आप के, कि बिरहन डंस न जाय नाहर के नख में बसे, दन्ते बसे भुजंग की बिच्छी के पोछी बसे, बिरहन के सब अंग एक त मा बारी भोरी दूसरे पियावा … Read more

डोलिया कंहार लेके अइले सजनवा लिरिक्स-मदन राय

पिया पिया रटते बदन पियराइल लिरिक्स- मदन राय

1.डोलिया कंहार लेके अइले   (Madan Rai) डोलिया कंहार लेके अइले   (Madan Rai) डोलिया कंहार लेके डोलिया कंहार लेके अइले सजनवा.. सजनवा हो मोरे मांगेलन गवनवा                  सजनवा हो मोरे मांगेलन गवनवा डोलिया कंहार लेके डोलिया कंहार लेके अइले सजनवा.. सजनवा हो मोरे मांगेलन गवनवा          … Read more

पटना से पाजेब बलम जी Lyrics – भरत शर्मा व्यास

पटना से पाजेब बलम जी- भरत शर्मा व्यास             आ…आ…..आ….. जहिया बिहसि कली त चटकबे करी देखे वाला के मनवा बहकबे करी चाहे बगिया में केतनो सम्हरी के चल कांट बाटे त अंचरा अटकबे करी पटना से पाजेब बलम जी हो.ओ..ओ…. पटना से पाजेब बलम जी अरे आरा से होंठ … Read more

अंखियां में भरीके आसारवा Lyrics- भरत शर्मा व्यास निर्गुण

माई दरबार चल भजन

अंखियां में भरीके आसारवा Lyrics- भरत शर्मा व्यास निर्गुण              दोहा-– तीरथ नाहाए एक फल..अ.                                      संत मिलन फल चा..र सदगुरु मिले अनेक फल.. अ कहे कबीर बिचा..र आरे अंखियां में भरीके आसारवा  … Read more

error: Content is protected !!